Diwali 2020, दिवाली 2020

Diwali 2020  : हिंदू धर्म में दिवाली के त्योहार का विशेष महत्व है। ये साथ ही हिन्दू धर्म का सबसे बड़ा त्योहार होने के साथ-साथ बड़ा धूमधाम से. मनाया जाने वाला त्योहार  है, दिवाली का  पर्व धनतेरस से शुरू होकर भाई दूज को समाप्त होता है। ये पाँच दिन का त्योहार माना जाता है दिवाली 14 नवंबर (शनिवार) को पड़ रही है।  दिवाली के दिन भगवान श्री गणेश और माता लक्ष्मी की पूजा की जाती है। दिवाली से पहले पूरे घर की अच्छी तरह से सफाई की जाती है और शाम के समय गणेश जी और लक्ष्मी जी का पूजन करके पूरे घर को दीपों से सजाकर माता लक्ष्मी की स्वागत किया जाता है। दिवाली को दीपों का त्योहार कहा जाता है।Diwali 2020, दिवाली 2020

धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, इस दिन ही भगवान श्रीराम लंकापति रावण का वध करके अयोध्या लौटे थे। भगवान राम की वापसी पर अयोध्या में घी के दीपक जलाकर उनका स्वागत किया गया था। कहते हैं कि तभी से इस खुशी में दिवाली मनाई जाती है। हालांकि इस साल धनतेरस, नरक चतुर्दशी और दिवाली की तिथियों को लेकर लोगों को बताने रहे हैं, जानिए धनतेरस, छोटी दिवाली (नरक चतुर्दशी), दिवाली,  गोवर्धन और भाईदूज  की सही  तिथि और शुभ मुहूर्त-

 दिवाली कब है 2020?Diwali 2020,दिवाली 2020,धनतेरस 2020

दिवाली का पर्व हर वर्ष कार्तिक मास की अमावस्या को मनाया जाता है। दिवाली 2020 में 14 नवंबर 2020 को मनाई जाएगी

Diwali 2020: धनतेरस धनतेरस(Dhanteras 2020) –

हर वर्ष कार्तिक कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी को धनतेरस (Dhanteras 2020) का त्योहार मनाया जाता है। इस साल धनतेरस 13 नवंबर को मनाया जाएगा। ज्योतिषाचार्यों के मुताबिक, त्रयोदशी 12 नवंबर की शाम से लग जाएगी। ऐसे में धनतेरस की खरीदारी 12 नवंबर को शाम से भी की जा सकेगी। हालांकि उदया तिथि में त्योहार मनाया जाता है। ऐसे में धनतेरस 13 नवंबर को मनाया जाएगा, माना जाता है कि धनतेरस को घर मे कोई ना कोई भारी अथवा नई वस्तु खरीदी जाती है और लोग इस दिन सोना चांदी अथवा जेवर खरीदते हैं, माना जाता है कि ये सबसे अच्छा खरीदारी का दिन होता है साथ ही लोग इस दिन पूरा दिवाली पूजा का सामन खरीदते हैं

Diwali 2020:छोटी दिवाली 2020 (नरक चतुर्दशी)-

हर साल छोटी दिवाली या नरक चतुर्दशी कार्तिक मास की चतुर्दशी तो इस बार14 नवंबर (छोटी दिवाली 2020) मनाई जाएगी। नरक चतुर्दशी पर स्नान का शुभ मुहूर्त सुबह 5:23 से सुबह 6:43 बजे तक रहेगा। चतुर्दशी तिथि 14 नवंबर को दोपहर 1 बजकर 16 मिनट तक ही रहेगी। इसके बाद अमावस्या लगने से दिवाली भी इसी दिन मनाई जाएगी। साथ इस दिवाली को     अथवा छोटी दिवाली को इस  दिन रात को एक दीपक आगन मे जला कर मनाया जाता है

 Diwali 2020:दिवाली (दीपावली) 2020-

अमावस्या तिथि में रात में भगवान गणेश और मां लक्ष्मी का पूजन किया जाता है। ऐसे में दिवाली भी इस साल 14 नवंबर को मनाई जाएगी। Diwali 2020,दिवाली 2020

1.दिवाली 2020 तिथि और शुभ मुहूर्त – 

दिवाली की तिथि: 14 नबंवर 2020

लक्ष्मी पूजा मुहूर्त: शाम 5 बजकर 28 मिनट से शाम 7 बजकर 24 मिनट तक (14 नबंवर 2020)

अमावस्या तिथि-14 नबंवर 2020 दोपहर 2 बजकर 17 मिनट से अगले दिन सुबह 10 बजकर 36 मिनट तक

प्रदोष काल मुहूर्त: शाम 5 बजकर 28 मिनट से रात 8 बजकर 07 मिनट तक

वृषभ काल मुहूर्त: शाम 5 बजकर 28 मिनट से रात 7 बजकर 24 मिनट तक

2.दिवाली लक्ष्मी पूजन रात/रात्रि का मुहूर्त-

लाभ मुहूर्त: शाम 05:38 से 07:16 तक

शुभ मुहूर्त: शाम 08:55 से रात 10:33 तक

अमृत मुहूर्त: रात 10:33 से रात 12:11 तक

3.दिवाली की पूजा विधि (Method Of Diwali Pujan)-

1.दिवाली के दिन भगवान गणेश और माता लक्ष्मी जी की पूजा की जाती है।

  1. इस दिन घर के सभी लोगो शाम के समय स्नान करने के बाद नये वस्त्र धारण करने चाहिए।
  2. इसके बाद एक चौकी पर गंगाजल छिड़कर उस पर लाल रंग का कपड़ा बिछाएं।

4.कपड़ा बिछाने के बाद खील और बताशों की ढेरी लगाकर उस पर भगवान गणेश, माता लक्ष्मी की प्रतिमा और कुबेर जी की प्रतिमा स्थापित करें।

5.इसके बाद कुबेर जी प्रतिमा भी स्थापित करें और साथ ही कलश की स्थापना भी करें । उस पर स्वास्तिक बनाकर आम के पत्ते रखें और नारियल स्थापित करें।

6.कलश स्थापित करने के बाद पंच मेवा, गुड़ फूल , मिठाई,घी , कमल का फूल ,खील, गन्ना और बातसे भगवान गणेश और माता लक्ष्मी के आगे रखें।

7 इसके बाद अपने घर के पैसों, जेवरों और बहीखातों आदि को भगवान गणेश और माता लक्ष्मी के आगे रखें।

8 यह सभी चीजें रखने के बाद घी और तेल के दीपक जलाएं और विधिवत भगवान गणेश और माता लक्ष्मी जी की पूजा करें।

9.माता लक्ष्मी के मंत्रों का जाप और साथ ही श्री सूक्त का भी पाठ करें।

10.पूजा समाप्त होने के बाद अंत में अपने घर के मुख्य द्वार पर तेल के दो दीपक अवश्य जलाएं और साथ ही अपनी तिजोरी पर भी एक दीया अवश्य रखें

11 पूजा किए हुए प्लेस पर कोई ना कोई घर का व्यक्ति उधर ही सोना जरूरी है उस प्लेस को खाली नहीं छोड़ा जाता है

 Diwali 2020 :गोवर्धन 2020-

15 नवंबर 2020 को गोवर्धन पूजा होगी, इस दिन घर पर मिठाई बनाई जाती है और सबलोग आसपास के अथवा दिवाली की शुभकामना(happy diwali wish) करते हैं और आपस मे मिलते हैं ये दिन भी बहुत महत्वपूर्ण दिन होता है

Diwali 2020 :भाईदूज 2020 (Bhaidooj 2020)-

16 नवंबर को भाई दूज या चित्रगुप्त जयंती मनाई जाएगा   इस दिन सभी  भाई बहनों  लिए बड़ा खुसी  का दिन होता है हर बहन अपने भाई को मिटाई खिला के अपना प्यार जाहिर करते हैं  

Diwali 2020: दिवाली का महत्व(Importance Of Diwali Festival)-

धार्मिक मान्यताओं के अनुसार त्रेतायुग में जब भगवान श्री राम रावण का वध करके अयोध्या लौट रहे थे तो अयोध्या के लोगों ने उनका दीप जलाकर स्वागत किया था। भगवान श्री राम के इसी स्वागत को हर साल लोग दिवाली के त्योहार के रूप बड़ी धूम धाम से मनाते हैं।

दिवाली के दिन भगवान गणेश और माता लक्ष्मी की पूजा का विधान है साथ ही अपने घर के मुख्य द्वार पर रंगोली बनाकर और पूरे घर को दीपों से सजाकर मां लक्ष्मी के आगमन का स्वागत करते हैं। माना जाता है माँ लक्ष्मी इस दिन जमीन पर साक्षात आती है इसलिए लोग इस दिन अपने घरों को अच्छी तरह से सजाते हैं, जिसमें माँ लक्ष्मी खुसी से घर आए और इससे घर धन की कोई कमी न हो

इस दिन अपने घरों को अच्छी तरह से सजाते हैं और भगवान गणेश और माता लक्ष्मी की पूजा की जाती है पूजा करने के बाद दिवाली पटाखे जलाकर इस त्योहार को बड़ी ही धूमधाम से मनाया जाता है। इस त्योहार पर लोग अपने गहनों,पैसों, महत्वपूर्ण पूर्ण कामों के प्रतीक और बहीखातों की भी पूजा करते हैं। मान्यताओं के अनुसार ऐसा करने से मां लक्ष्मी का घर में वास होता है।

ये भी जाने – Haapy Holi Wishes 2021 In Hindi Holi 2021 Date : इस दिन मनाई जाएगी भारत में साल 2021 में होली और इससे जुडी सम्पूर्ण जानकारी ,जानें होलिका दहन का मुहूर्त, होली 2021 तारीख

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *